तात्कालिक चेतावनी

प्रत्यक्ष मौसम

भारत मौसम विज्ञान विभाग की जल मौसम विज्ञान सेवाएँ


भारत मौसम विज्ञान विभाग जल विज्ञान, जल प्रबंधन और बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजनाओं के प्रबंधन के लिए मौसम संबंधी पहलुओं पर सहायता और सलाह प्रदान करता है। इन सेवाओं का उपयोग केंद्रीय जल आयोग, कृषि मंत्रालय, जल संसाधन मंत्रालय, रेलवे, दामोदर घाटी निगम बाढ़ नियंत्रण प्राधिकरण और राज्य सरकारों द्वारा किया जाता है। भारत मौसम विज्ञान विभागका जल मौसम विज्ञान प्रभाग क्रिस(CRIS)पोर्टल पर रिपोर्ट्स और मानचित्रों के रूप में अपने 'कस्टमाइज्ड रेनफॉल इन्फर्मेशन सिस्टम (CRIS) के माध्यम से विभिन्न वर्षा उत्पादों की जानकारी प्रदान करता है।

'कस्टमाइज्ड रेनफॉल इन्फर्मेशन सिस्टम (CRIS) के लिए यहाँ क्लिक करें।

 

बाढ़ मौसम एकक

भारत मौसम विज्ञान विभाग द्वारा दस स्थानों पर बाढ़ मौसम कार्यालय (एफएमओ) आगरा, अहमदाबाद, आसनसोल, भुवनेश्वर, गुवाहाटी, हैदराबाद, जलपाईगुड़ी, लखनऊ, नई दिल्ली और पटना मेंस्थापित किए गए हैं। बाढ़ के मौसम के दौरानबाढ़ मौसम कार्यालय केंद्रीय जल आयोग को निम्नलिखित नदियों में बाढ़ की चेतावनी जारी करने के लिए बहुमूल्य मौसम संबंधी सहायता प्रदान करते हैं:

  • आगरा: यमुना का निचला भाग और बेतवा
  • अहमदाबाद: नर्मदा, तापी, माही, साबरमती, बनास और दमणगंगा
  • आसनसोल: अजय, मयूराक्षी और कांग्सबाती
  • भुवनेश्वर: महानदी, ब्राह्मणी, बैतरिणी, ब्रहाबा-लंग, सुवर्णरेखा, रशकुल्या और वांसधारा
  • गुवाहाटी: ब्रह्मपुत्र और बराक
  • हैदराबाद: गोदावरी और कृष्णा
  • जलपाईगुड़ी: तीस्ता
  • लखनऊ: गंगा, रामगंगा, गोमती, साई, राप्ती घाघरा और समदा
  • नई दिल्ली: ऊपरी यमुना, निचला यमुना, साहिबी
  • पटना: कोसी, महानंदा, बागमती, कमला, गंडक, बूढ़ीगंडक, उत्तर कोयल, कन्हार, पुनपुन और ऊपरी सोन ।

 

बाढ़ मौसम सेवा

चित्रात्मक और सारणीबद्ध रूप में उपद्रोणी वार NWP वर्षा पूर्वानुमान उत्पादों के लिए यहां क्लिक करें जो परिचालन के आधार पर परिमाणात्मक वर्षा पूर्वानुमान(QPF)जारी करने के लिए उपयोगी हैं।

 

वर्षा की निगरानी

भारत में वार्षिक वर्षा की80 प्रतिशत वर्षा दक्षिण-पश्चिम मानसून मेंजून से सितंबर के दौरान होतीहै। इस मौसम के दौरान देश भर में वर्षा, भौगोलिक प्रभाव और कुछ क्षेत्रों में वर्षा-कराने वाली प्रणालियों की अधिमान्य घटना के कारण स्थानिक बदलाव की एक विस्तृत श्रृंखला को दर्शाती है। भारत में बहुत व्यापक वर्षामापी संजाल है और देश में वर्षा की निगरानी करनाएक कठिन कार्य है। जिलावार दैनिक वर्षा का वास्तविक समय की निगरानी और सांख्यिकीय विश्लेषण भारत मौसम विज्ञान विभागनई दिल्ली के जल मौसम विज्ञान विभाग के महत्वपूर्ण कार्यों में से एक है। वर्षा आधारित निगरानी इकाई द्वारा नियमित रूप से दैनिक वर्षा के आंकड़ों के आधार पर, साप्ताहिक जिलावार, उप-खंडवार और राज्यवार वर्षा वितरण का सारांश नियमित रूप से तैयार किए जाते हैं। देश के 36 मौसम संबंधी उपखंडों में साप्ताहिक और संचयी वर्षा के आंकड़े दिखाने वाले मानचित्र तैयार किए जाते हैं। यह जानकारी कई उपयोगकर्ता एजेंसियों,खासकर कृषि नियोजन के लिएबहुत महत्वपूर्ण है।

 

जल विज्ञान परियोजना

वर्तमान समय में भारत मौसम विज्ञान विभाग में विश्व बैंक की सहायता से 6 साल की अवधि के लिए जल विज्ञान परियोजना कार्यान्वित की जा रही है। इस परियोजना का उद्देश्य जल मौसम विज्ञान संबंधी गतिविधियों और डेटा प्रोसेसिंग और प्रबंधन प्रणालियों के लिए भौतिक बुनियादी ढांचे को बढ़ाना है, जिसके परिणामस्वरूप वर्षा डेटा कीमात्रा और गुणवत्ता में वृद्धि हुई है। दक्षिण के आठ राज्य और भारत मौसम विज्ञान विभाग सहित पांच केंद्रीय एजेंसियां इस परियोजना में शामिल हैं।भारत मौसम विज्ञान विभाग की मानकीकृत उपकरणों की खरीद और उनकी संस्थापना, मौजूदा और नए वर्षामापीस्टेशनों के निरीक्षण और राज्यों /केंद्र के एजेंसियों कोविभिन्न स्तरों पर कार्मिकों को विशेष प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए संबंधित राज्यों / केंद्रीय एजेंसियों को तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान करने मेंएक महत्वपूर्ण और सक्रिय भूमिका है।