तात्कालिक चेतावनी

प्रत्यक्ष मौसम

भारत में नागरिक उड्डयन के लिए मौसम संबंधी सेवाएँ



भारत मौसम विज्ञान विभाग अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (ICAO) और भारत के नागरिक उड्डयन महानिदेशक (DGCA) द्वारा निर्धारित आवश्यकताओं की पूर्ति में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीयनागरिक उड्डयन क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण सेवा प्रदान करता है।ये सेवाएं देश के विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर स्थित 18 एयरोड्रोम मौसम विज्ञान कार्यालयों (एएमओ) और 54 विमानन मौसम केंद्रों (एएमएस) के माध्यम से प्रदान की जाती हैं।

मुंबई, कोलकाता, दिल्ली और चेन्नै हवाई अड्डों पर काम करने वाले एयरोड्रोम मौसम विज्ञान कार्यालय भी संबंधित उड़ान सूचना क्षेत्रों (एफआईआर) में उड़ानों के लिए मौसम निगरानीकार्यालयों (MWO) के रूप में भी कार्य करते हैं।

एक आईसीएओ के नाम से नामित उष्णकटिबंधीय चक्रवात परामर्श केंद्र (टीसीएसी) नई दिल्ली में भी काम कर रहा है। इस केंद्र की जिम्मेदारी है कि वह अपने जिम्मेदारी वाले क्षेत्र में उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के विकास की निगरानी करे, भूस्थैतिक और ध्रुवीय परिक्रमा उपग्रह डेटा, रडार डेटा और अन्य मौसम संबंधी जानकारी का उपयोग करे और भारत और पड़ोसी देशों में मौसम संबंधी निगरानी करने वाले कार्यालयों को उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के बारे में सलाह एवं जानकारी प्रदान करे।

उड्डयन मौसम कार्यालयों के कार्यों का तकनीकी समन्वय और निगरानी केंद्रीय विमानन मौसम प्रभाग(CAMD) द्वारा मौसम विज्ञान के महानिदेशकनई दिल्ली में की जाती है।

मौसम विज्ञान प्रशिक्षण संस्थान (MTI), पुणे में वैमानिकी मौसम विज्ञान कार्मिकों के प्रशिक्षण की आवश्यकताओं का ध्यान रखा जाता है। एयरपोर्ट के मौसम संबंधी उपकरणों की स्थापना और रखरखाव सतह मौसम विज्ञान प्रभाग पुणे द्वारा किया जाता है। विमानन के लिए दूरसंचार आवश्यकताओं को नई दिल्ली में कार्यरत सूचना प्रणाली एवं सेवाएँ प्रभाग द्वारा और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की दूरसंचार इकाई द्वारा प्रबंधित किया जाता है।

भारत में उड्डयन के लिए मौसम विज्ञान सेवा के दिशानिर्देश केंद्रीय विमानन मौसम प्रभागद्वारा प्रकाशित "मैनुअल ऑन प्रोसीजर फॉर मेटेरियोलॉजिकल सर्विसेज फॉर एविएशन इन इंडिया" में दिए गए हैं। यह अनिवार्य रूप से अनुलग्नक 3 है, जिसमें राष्ट्रीय प्रथाओं को भी शामिल किया गया है। केंद्रीय विमानन मौसम प्रभागद्वारा एक एविएशन वेदर कोड बुक प्रकाशित की गई है जो "कोड्स पर लिखित मैनुअल- WMO No.306" के समान है। डब्ल्यूएमओऔर आईसीएओद्वारा सभी संशोधनों और परिवर्तनों को शामिल करने के लिए इन दोनों प्रकाशनों को समय-समय पर अद्यतन और संशोधित किया जाता है।

 

सूचना प्रसार:

ऑपरेटरों को ब्रीफिंग और प्रलेखन या तो मैनुअल या स्वचालित साधनों के माध्यम से प्रदान किया जाता है। वेब आधारित सूचना प्रसार प्रणाली जिसे भारत मौसम विज्ञान विभाग की ऑन-लाइन ब्रीफिंग सिस्टम (ओएलबीएस) के रूप में जाना जाता है, चेन्नै और नई दिल्ली में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर कार्यरत मौसम कार्यालयों द्वारा अनुरक्षित किया जा रहा है, जिसके माध्यम से पंजीकृत उपयोगकर्ता सीधे वांछित उत्पादों को डाउनलोड कर सकते हैं। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के प्राथमिक संचार चैनलों के अलावा, विभाग के पास विमानन मौसम संबंधी जानकारी के प्रसार के लिए सभी उन्नत संचार मोड हैं।