तात्कालिक चेतावनी

प्रत्यक्ष मौसम

भारतीय खगोलीय पंचांग


भारतीय खगोलीय पंचांग को खगोल विज्ञान केंद्र, कोलकाता द्वारा प्रकाशित किया जाता है, जो प्रेक्षणकर्ता खगोलविदों और अन्य उपयोगकर्ताओं, जैसे पंचांग निर्माताओं को खगोलीय डेटा प्रदान करने के लिए है। यद्यपि इसी तरह के खगोलीय पंचांग दुनिया के सात और देशों द्वारा समान आंकड़ों से तैयार किए गए हैं, लेकिन भारतीय पंचांग हमारेराष्ट्र कीविशेष आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए तैयार किया गया है।

इस पुस्तक में लगभग 500 पृष्ठ हैं, जो केवल अंग्रेजी भाषा में प्रकाशित है और इसकी सामग्री को छह भागों में विभाजित किया गया है जैसे:

  • भाग I: समय, सूर्य, चंद्रमा, ग्रह
  • भाग II: तारे
  • भाग III: सूर्योदय, सूर्यास्तऔर चंद्रोदय, चंद्रास्तकी सरणी
  • भाग IV: ग्रहणऔर ग्रास
  • भाग V: खगोलीय प्रक्रियाएं और विविध सारणियाँ
  • भाग VI: भारतीय कैलेंडर

इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल यूनियन (IAU) द्वारा 1976 और 1979 में आयोजित बैठक में, समय, संदर्भ फ्रेम और खगोलीय स्थिरांक से संबंधित संकल्पों के अनुसार, इस प्रकाशन में मानक संदर्भ प्रणाली का युग J 2000.5 है और तर्क है कि पंचांग धरातलीय समय के अनुसार है।

प्रतियां प्राप्ति स्थान:

  • प्रकाशन नियंत्रक, सिविल लाइंस, दिल्ली - 110054
  • भारतसरकारबुक डिपो, 8, के.एस. रॉय रोड, कोलकाता - 700001
  • भारत सरकार किताब महल, बाबा खड़क सिंह मार्ग, नई दिल्ली
  • भारतसरकार बुक डिपो, न्यू मरीन लाइन्स, मुंबई
  • खगोल विज्ञान केंद्र, साल्ट लेक, सेक्टर-5, कोलकाता-700091
  • भारत सरकार के प्रकाशन बेचने वाले अन्य एजेंट