तात्कालिक चेतावनी

प्रत्यक्ष मौसम

उपग्रह मौसम सेवाएँ


इतिहास

भारत मौसम विज्ञान विभाग में उपग्रह मौसम प्रभाग 70 के दशक की शुरुआत से काम करना शुरू कर दिया था। 1972 से 1982 तक, भारत मौसम विज्ञान विभाग को SDUC के माध्यम से NOAA और NASA के मौसम संबंधी उपग्रहों की सैटेलाइट तस्वीरें प्राप्त हुआ करतीं थीं और मौसम के पूर्वानुमान में इस्तेमाल करने के लिए तस्वीरों को फोटोग्राफिक पेपर पर छापा जाता था।

दूरसंचार, प्रसारण, मौसम विज्ञान, और खोज और बचाव कार्यों को पूरा करने के लिए ISRO द्वारा बहुउद्देशीय भू-स्थिर उपग्रहों की एक श्रृंखला का कार्यक्रम भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह (INSAT) 1982 में शुरू किया गया। आज इन्सैट(INSAT) एशिया-प्रशांत में सबसे बड़े घरेलू संचार उपग्रह प्रणालियों में से एक है जिसके नौ परिचालन संचार उपग्रहों वाला क्षेत्र भू-स्थिर कक्षा में स्थापितहै। यह अंतरिक्ष विभाग, दूरसंचार विभाग, भारत मौसम विज्ञान विभाग, आकाशवाणीऔर दूरदर्शन का संयुक्त कार्यक्रम है। राष्ट्र को उपग्रह मौसम संबंधी सेवाएं प्रदान करने के लिए पहला सफल इनसैट -1 बी उपग्रह डेटा प्राप्त करने और प्रसंस्करण प्रणाली वर्ष1983 में भारत मौसम विज्ञान विभाग में एक पूर्ण-विकसित उपग्रह मौसम विभाग के रूप में स्थापित किया गया। इनसैट -1 श्रृंखला के उपग्रह बहुउद्देशीय उपग्रह थे, जिनमें मौसम संबंधी पेलोड, दो चैनल अति उच्च विभेदन रेडियोमीटर(VHRR) पृथ्वी की तस्वीर लेने के लिए अदृश्य(0.55-0.75 µm) और इंफ्रा-रेड (10.5-12.5µm) चैनल होते हैं जिसकी दृश्यता रिज़ॉल्यूशन2.75 X 2.75 किलोमीटरऔर इंफ्रा रेडचैनल में 11 X 11 कि.मी. है। इन्सैट -2 श्रृंखला के उपग्रहों के प्रक्षेपण के बाद से, वीएचआरआर का स्थानिक दृश्यमान में 2 X 2 किलोमीटर और इंफ्रा रेडचैनल में 8 X 8 किलोमीटर तक की वृद्धि हुई है। इन्सैट -2E उपग्रह में VHRR पेलोड में जल वाष्प (5.7-7.1 µm) चैनल भी जोड़ा गया है, जिसमें न्यू पेलोड के साथ रिज़ॉल्यूशन 8X8 किलोमीटर है, तीन चैनलों के चार्ज किए गए युगल डिवाइस (सीसीडी) (दृश्यमान-0.62 से 0.69 µm), इंफ्रा-रेड के निकट(0.77 से 0.86 µm) और शॉर्ट वेव इंफ्रा-रेड(1.55 से 1.77 µm) बैंड, जिसका रिज़ॉल्यूशन 1KM है। इनसैट -1 और इनसैट -2 के दोनों श्रृंखला केदौरान, स्कैन अधिग्रहण का कालिक रिज़ॉल्यूशन 3-3 घंटे का था। 1996 सेउपग्रह चित्रों को भारत मौसम विज्ञान विभाग कीवेबसाइट के माध्यम से जनता के लिए खोल दिया गया है। मौसम विज्ञान को समर्पित मौसम उपग्रहकल्पना -1 को 12 सितंबर, 2002 कोप्रक्षेपित किया गया इसमें वीएचआरआर पेलोड लगे हैं और एक बहुउद्देशीय इन्सैट -3 ए उपग्रह10 अप्रैल, 2003 को प्रेक्षित किया गया जिसमेंवीएचआरआर और सीसीडी पेलोड के साथ संचार ट्रांस्पोंडर लगे हुए हैं। कल्पना -1 द्वारा स्कैन अधिग्रहण का कालिकरिज़ॉल्यूशन 2002 - 2005 के दौरान 3 ट्रिपलेट (00,06,12 UTC) के साथ 3 घंटे का था, 2005 - 2008 के दौरान 3 ट्रिपलेट (00,06,12 UTC) के साथ प्रति घंटे का और 2008-17के दौरान आधा घंटा का था। इन्सैट -3 ए, वीएचआरआर पेलोड द्वारा स्कैन अधिग्रहण का कालिकरिज़ॉल्यूशन हर3 घंटे (2003 - 2008) और फिर प्रति घंटा (2008-16) काथा। सीसीडी पेलोड दिन में छह बार (03,05,06,07,09 और 11 यूटीसी पर) चित्र प्राप्त करता था। इनसैट -3 ए और कल्पना -1 दोनों को क्रमशः सितंबर 2016 और सितंबर 2017 के बाद से विघटित और बंद कर दिया गया था।

इस प्रभाग ने उपग्रह डेटा को प्राप्त करने और कई नए उत्पादों को तैयार करने में एक लगातार प्रगति की है जो मौसम पूर्वानुमान में काफी उपयोगी हैं और अब यह प्रभाग मौसम के पूर्वानुमान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

वर्तमान स्थिति

वर्तमान में, दो प्रचालनात्मक मौसम संबंधी उपग्रह INSAT-3D और INSAT-3DR हैं जिसमें पृथ्वी की तस्वीर लेने के लिए 6 चैनल इमेजर लगे हैं, जिसकी दृश्यता (0.55-0.75um),SWIR (1.55-1.70um)रिज़ॉल्यूशन 1कि.मी.X1किमी, एमआईआर (3.80- 4.00 um), TIR-1 (10.30-11.30 um),TIR-2 (11.50-12.50um) रिज़ॉल्यूशन 4कि.मी.X4कि.मी.और WV (6.50-7.10um) रिज़ॉल्यूशन 8कि.मी.X 8कि.मी. है और 19 चैनल साउंडर हैं जिसमें LWIR(14.71-12.02um) के 7 चैनल, MWIR(11.03-6.51um)के 5 चैनल,SWIR(4.572-3.74um) के 6 चैनल और दृश्यमान(0.695um) का एक चैनल है जिसमें से प्रत्येक 10X10 किमी रिज़ॉल्यूशन के हैं और प्रोफाइल की व्युत्पत्ति के लिए वातावरण को स्कैन करते हैं। INSAT-3D को 26 जुलाई, 2013 को लॉन्च किया गया था और यह 82 डिग्री पूर्व में स्थित था और INSAT-3DR को 08 सितंबर 2016 को लॉन्च किया गया था और यह 74 डिग्री पूर्व में स्थित है। वर्तमान में प्रत्येक INSAT-3D और INSAT-3DR IMAGER पेलोड से प्रतिदिन 48 नग सैटेलाइट पास प्राप्त किए जाते हैं, इसका उपयोग स्टेजर मोड में किया जा रहा है ताकि हर पंद्रह मिनट के बाद पूर्वानुमानों के लिए छवियों / उत्पादों का एक नया सेट उपलब्ध हो जाए। INSAT-3D और INSAT-3DR साउंडर से सेक्टर A (भारतीय भूमि क्षेत्र) के लिए हर 60 मिनट पर और सेक्टर B (हिंद महासागर क्षेत्र) के लिए हर 90 मिनट पर बारी-बारी से चित्र लिए जाते हैं, इन क्षेत्रों के तापमान और आर्द्रता प्रोफाइल प्राप्त करने के लिए हर तीन घंटे के अंतराल के बाद सेक्टर A और B के बीच उनके स्कैन क्षेत्रों को बदलकर चित्र प्राप्त किया जाता है। उपग्रह डेटा को संसाधित करने के बाद तैयार किए गए गुणात्मक उत्पाद को मौसम के पूर्वानुमान में उपयोग के लिए उपयोगकर्ताओं को प्रदान किया जाता है। इसके अलावा दोनों उपग्रहों में डेटा रिले ट्रांसपोंडर (DRT) पेलोड हैं जिनका उपयोग भारत के विभिन्न संस्थानों के स्वचालित मौसम केंद्रों (AWS) / स्वचालित वर्षामापी (ARG) नेटवर्क से डेटा प्राप्त करने और संचारित करने के लिए किया जा रहा है।

प्रभाग के कार्य

  • भू-स्थानिक उपग्रहों अर्थात् इंसैट -3 डी और इंसैट -3 डीआर के प्रचालनात्मक इंसैट श्रृंखला से सीधे डेटा प्राप्त करने के लिए एक समर्पित पृथ्वी स्टेशन का उपयोग किया जाता था। इन उपग्रहों से प्राप्त डेटा को इंसैट मौसम विज्ञान डेटा प्रोसेसिंग (IMDPS) प्रणाली में संसाधित किया जाता है और सभी चैनलों के चित्र तथा मात्रात्मक उत्पाद जैसे क्लाउड मोशन वेक्टर (CMV), जलवाष्प विंड (WVW), दृश्यमान / मध्य-अवरक्त पवन, पवन के विभिन्न उत्पादों (भ्रमिलता, अपरूपण, अपरूपण प्रवृत्ति, अभिसरण और विचलन) आउटगोइंग लॉन्ग वेव रेडिएशन (OLR), मात्रात्मक वर्षा का अनुमान अर्थात् हाइड्रो एस्टीमेटर (HE), इंसैटमल्टीस्पेक्ट्रल वर्षा, एल्गोरिथ्म (IMSRA) और जीपीआई / क्यूपीइ, समुद्रसतह तापमान (SST) ) और अपर ट्रॉपॉस्फेरिक ह्यूमिडिटी (UTH), रात्रि समय का कुहरा, वर्फ आवरण, एयरोसोल ऑप्टिकल डेप्थ (AOD), आग, धूआँ, भूमि सतह तापमान (LST), अपर ट्रोपोस्फेरिक ह्यूमिडिटी (UTH), आतपन, तापमान और आर्द्रता प्रोफाइल, ओजोन परत में कुल वर्षणीय जल / कुल वर्षणीय जल की छवियाँ तैयार की जाती हैं।
  • INSAT -3D और INSAT-3DR उपग्रह डेटा का उपयोग पूर्वानुमान/ मौसम निगरानी में किया जाता है।
  • INSAT-3 डी उपग्रह से प्राप्त किए गए विकिरण मान और पवन के मान राष्ट्रीय मध्य अवधि मौसम पूर्वानुमान केंद्र को एनडब्ल्यूपी मॉडल में शामिलकरने के लिए प्रदान किया जाता है। पवन उत्पाद बीयूएफआर प्रारूप में जीटीएस पर प्रसारित किए जाते हैं। सभी तस्वीरों और व्युत्पन्न उत्पादों को वास्तविक समय के आधार पर वेबसाइट पर प्रसारित किया जाता है।
  • भारतीय क्षेत्र के चारों ओर खराब मौसम की परिघटनाओंसहित मौसम प्रणालियों की निगरानी और पूर्वानुमान में उपयोग के लिए उपग्रह चित्रों और उत्पादों पर आधारित उपग्रह बुलेटिन बनाना।li>
  • उष्णकटिबंधीय चक्रवात की उत्पत्ति और आगे बढ़ने की स्थिति का पता लगाना और इसकी गंभीरता के अनुसारआवश्यक अंतराल पर उसके स्थान और तीव्रता का पता लगाना। माइग्रेटिंग सिस्टम जैसे उष्णकटिबंधीय चक्रवात, गर्त / लकीरें, जेट स्ट्रीम, गहन संवहन का क्षेत्र, अंतर उष्णकटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र आदि गतिविधियोंकी निगरानी करना।
  • विभिन्न उपग्रह उत्पादों जैसे ओएलआर, समुद्र के ऊपर हवा की गति और समुद्र के ऊपर जलवाष्प आदि को मौसम के पूर्वानुमान के लिए एक इनपुट के रूप में दिया जाता है और मानसून के आगमन के बारे में निर्णयलियाजाता है।
  • भारत मौसम विज्ञान विभाग में विकास और वास्तविक समय पर उत्पाद का विश्लेषण और सूचना प्रसार (आरएपीआईडी)का संचालन।
  • सैटेलाइट डेटा से जिला स्तर पर टी-फाई ग्राम का सृजन और प्रसार।
  • सभी संसाधित उपग्रह चित्र और उत्पाद नियमित रूप से संग्रहीत किए जाते हैं।
  • 15 मिनट के अंतराल पर एकीकृत वर्षणीय जलवाष्प(IPWV) प्राप्त करने के लिए 25 ग्लोबलनैविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (GNSS) का एक नेटवर्क चालू है जिससे IPWV की निगरानी के रूप में मौसम और डेटा को निर्देशित करने के लिए एक मार्गदर्शन प्रदान करते हुए वेबसाइट के माध्यम से पूर्वानुमानकर्ताओं के लिए उपलब्ध कराया जाता है। GNSS नेटवर्क द्वारा तैयार किए गए डेटा कोNWP मॉडल में आमेलित किया जाता है।
  • नई दिल्ली, चेन्नै और गुवाहाटी में NOAA / MODIS / METOP सैटेलाइट डेटा प्राप्त करने और प्रसंस्करण प्रणाली का उपयोग NOAA, METOP-A, Terra, Aqua और FY1 ध्रुवीय परिक्रमा उपग्रहों और व्युत्पन्न स्तर -1,स्तर-2 के डेटा उत्पाद प्राप्त करने और संसाधित करने के लिए किया जाता है, औरवेबसाइट के माध्यम से पूर्वानुमानकर्ताओं के लिए उत्पाद प्रोफाइल उपलब्ध कराए जाते हैं।
  • WMO / CGMS और अन्य राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों को उपग्रह मौसम विज्ञान नियोजन हेतुइनपुट प्रदान किया जाता है।
अधिक विवरण हेतु यहाँ क्लिक करें।